Urmul Jyoti Sansthan

developing rural india - The participatory way

Volunteer/Internship
Donate Us

खीचन में देखी साइबेरियन कुरजां

चेतनराम
23-12-2017 06:58

खीचन में देखी साइबेरियन कुरजां

साइबेरिया से उड़कर कुरजां (पक्षी) पहंुचने लगी जोधपुर जिले के खींचन गांव में बने तालाब पर -

21 दिंसबर 2017 को फलौदी उरमूल मरूथली बुनकर विकास समिति की साधारण सभा बैठक में गया तो मौका मिला खीचन जाने का।

जोधपुर जिले का खीचन गांव जाना जाता है प्रवासी साइबेरियन पक्षियों के अस्थायी निवास स्थल के रूप में। यहंा हजारों किमी दूर से बिना किसी पासपोर्ट व वीजा क,े बिना कोई सरकारी अनुमति के हजारों वर्षो से ये साइबेरियन पक्षी इस मौसम में लम्बी आकाषीय उड़ान भरकर आते है और गर्मी आने से पहले वापिस चले जाते है।

स्थानीय निवासी और राज्य सरकार का पर्यटन विभाग इन पक्षियों के लिए दाने-पानी की व्यवस्था करता है। रोजाना हजारों सैलानी इन पक्षियों की आवाज व झलक देखने आते है।

मुझे भी मौका मिला इन पक्षियों को नजदीक से देखने का। इन पक्ष्ज्ञियों की एकता व कलरव देखकर मन गदगद हो गया। मेरे साथियों ने वहंा फोटो व विडियों बनाये। 

मेरे साथ रंगसूत्रा से सुमीता घोष, उरमूल ट्रस्ट से अरविन्द ओझा, उरमूल बुनकर विकास समिति से सुरजनराम जी, यूनीसेफ जयपुर की टीम सहित करीब 15 साथियों ने इन पक्षियों का मनमोहक नजारा देखा।

चेतनराम




 


Leave a Comment