Urmul Jyoti Sansthan

developing rural india - The participatory way

Volunteer/Internship
Donate Us

सर्मथन मूल्य खरीद केन्द्रो पर किसान दबाव में -

चेतनराम गोदारा
23-11-2017 16:18

सर्मथन मूल्य खरीद केन्द्रो पर किसान दबाव में -

समर्थन मूल्य पर मूगं व मूगंफली तुलवाई के समय खरीद ऐजेन्सी व बिचैलियों के दबाव में नही आयें किसान -

किसानो के लम्बे संघर्ष के बाद सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर तिलहन व दलहन की खरीद 11 अक्टुबर 2017 से शुरू हुई जो 90 दिन तक चलेगी। यह खरीद नैफेड के लिए राज्य स्तर पर राजफेड एवं स्थानीय स्तर पर क्रय-विक्रय सहकारी समितियों के माध्यम से की जा रही है। बीकानेर जिले में नोखा, डूगंरगढ, बीकानेर, लूणकरनसर, नापासर ,छतरगढ, खाजूवाला, पुगल व बज्ज्ूा में प्रति दिन औसत 700 से ज्यादा किसानों की प्रति किसान अधिकतम 25 क्विंटल एक बार में दलहन व तिलहन खरीद की जा रही है।

खरीद के समय गुणवता जाचं का जिम्मा खरीद ऐजेन्सी की तरफ से स्टार एग्री कम्पनी को दिया गया है और इस कम्पनी की तरफ से प्रशिक्षण प्राप्त युवा ढेरी में से सेम्पल लेकर क्वालिटी जाचं कर खरीद की अनुमति देते है।

बीकानेर जिले में गिन्नी मूगंफली की गुणवता के मापदण्ड -

फोरेन मेटर (कचरा)                                                                             2 प्रतिशत

डेमेज मूगंफली (टूटे व गल्ले हुए मूगंफली)                                               2 प्रतिशत

श्रीवेलेड व ईमेच्योर मूगंफली ( सिकुड़ी,अधपक्की व सळ पड़े गोटे वाली)        4 प्रतिशत

अन्य खराब मूगंफली                                                                            4 प्रतिशत

सैलींग मूगंफली (सही गिरी वाला गोटा)                                          70 ग्राम एवं ऊपर

नमी की मात्रा (गिल्ली मूगंफली)                                                             8 प्रतिशत 

उपरोक्त मापदण्डों के आधार पर गुणवता जाचं करने के बाद किसान से सहमति स्वरूप हस्ताक्षर करवाये जाते है और उसके बाद तुलवाई शुरू होती है। खरीद में कोई ऐसा नियम नहीं है मूगंफली चाहे खळे की, चुगाई की, नई या पुरानी मानदण्डों में सही होनी चाहिए।  

राजस्थान में सभी कृषि मंडियों में किसान की उपज खरीद के समय कम्प्यूटर कांटे काम लेने के पहले ही स्पष्ट आदेष है। अतः कम्पयूटर कांटो से ही तुलवाई करवानी है।

तुलवाई दर स्थानीय कृषि मंडियों में प्रचलित दरों पर ही करने के आदेश है। उदाहरण के लिए नोखा में मूगंफली प्रति बोरी गाड़ी खाली करवाई सहित, बोरी भरवाई, तुलवाई व टांका लगवाई 8.70 रू. दर तय है जो किसान को देनी है।

अनुभव - कई किसानों को डेमेज ज्यादा होने, नमी ज्यादा होने व पुरानी होने के नाम पर,  खरीद केन्द्रो पर गुणवता जाचं दल, तुलवाई करने वाले ऐजेन्ट,मजदूर, क्रय-विक्रय सहकारी समितियों  के अधिकारी कर्मचारी डराते है एवं दबाव बनाते है। किसान दबाव में आकर मापदण्ड सही करवाने के लिए लालच में आकर प्रति गाड़ी/ प्रति क्ंिवटल/ एक  मुष्त राषि उनको देने लगा है जो गलत प्रक्रिया है।

 किसानों से आग्रह व अपील -

70 प्रतिशत से कम गोटे वाली,कुल मिलाकर 12 प्रति

ात से ज्यादा खराब दाने वाली, 8 प्रतिषत से ज्यादा नमी वाली मूगंफली खरीद केन्द्रो पर नहीं लावे।

ढेरी से सेम्पल लेते समय स्वयं पास में रहे और संतुष्ट नही होने पर दुबारा व तीबारा सेम्पल करवाये।खरीद केन्द्र पर लाने के बाद मापदण्ड से ज्यादा नमी है तो उसे सुखाकर, कचरा व डेमेज ज्यादा तो साफ करके दुबारा या तीबारा सेम्पल करवा लेवें। किसान व्यवस्था को खराब नही करें। आपके छोटे लालच से सबका नुक्सान हो रहा है और व्यवस्था बिगड़ रही है।

तुलवाई के समय स्वयं पास रहे और कम्प्यूटर कांटे से प्रति बोरी 35.900 किलो से ज्यादा तोलने पर मना करे।

क्रय-विक्रय सहकारी समितियों के कर्मचारियों व अधिकारियों से आग्रह है कि संस्था को मूगंफली व मूगं खरीद में 1 प्रतिशत कमीशन( आढत) मिलेल रही जो काफी है इसके अलावा किसानों पर दबाव नही बनाये और अगर कोई तुलवाई पलदार, कर्मचारी का व्यवहार किसानों के प्रति सही नही है तो उनको समझाये या फिर वहंा से हटाये।


चेतनराम गोदारा

 किसान प्रतिनिधि, नोखा, बीकानेर



MANOJ BISHNOI Posted on 17-10-2018 10:32

  समर्थन मूल्य पर मूगं व मूगंफली ऑनलाइन नही हो रही है कृप्या जब भी चालू हो हमे छोचित करे धन्यवाद

MANOJ BISHNOI Posted on 17-10-2018 10:32

  समर्थन मूल्य पर मूगं व मूगंफली ऑनलाइन नही हो रही है कृप्या जब भी चालू हो हमे छोचित करे धन्यवाद

Leave a Comment