Urmul Jyoti Sansthan

...developing rural india - The participatory way

Volunteer/Internship
Donate Us

What we do

Despite pursuing our goals in our major areas of work,
we are not unmindful of other problems confronting our society.

Jagruk Nagrik Manch (Forum of awarecitizens)

Aware Peoples Campaign for GoodGovernance using Right To Information Act. as a tool and collective efforts formaking accountable government servant and system for public.

With a belief that injustice is not inevitable and can be done away with collectively, we responded with the formation of a platform called JNM (Jagruk Nagrik Manch), yet another major flagship program of Urmul Jyoti. Started in 1999 at Nokha, Bikaner, with a handful of members JNM today has about 789 members-30% of them being women-in as many as 100 villages. Membership is open to all adults cutting across the barriers of caste, class, religion and gender.
JNM works for the promotion of good governance, honesty and transparency in implementation of government schemes keeping a vigilant eye on governmental procedures. It employs various means for demanding state accountability which can vary from using the Right to Information Act, to using the media and to organizing the masses for a collective demonstration.
As such it acts as a pressure group which not only ensures that ethical and standard procedures are adhered to at every level of administration but also that there is no exploitation of the general public. The resounding success of JNM today is best exemplified by the fact that government officials themselves at times seek assistance of the Manch.

Through this information center we support and guidance to JNM members proper implement of all government development scheme without any delay and corruption.

Our work procedure is participatory and transparent.
 While the Preamble of the Indian Constitution begins with the gregarious “We the People...” democracy in India is far from participatory.
The only two classes of people are those who govern and those who are governed and the gap between the two is ever increasing.
 This results in a regime of secrecy and unacceptability in which officials thrive and there exists a nexus between them and the executing agencies / persons. Consequently and intentionally the general public is at the receiving end being exploited at all stages of the administration.

SC

OBC

General

Total

M

F

M

F

M

F


294

120

214

52

82

27

789

SOOCHNA KENDRA (Information centre)

The Manch carries out its activities from its Soochna Kendra located in Nokha town near the Tehsil administration and block development offices. The Kendra has a formal full-time staff with field workers. The staff and members are selected through a formal procedure and are properly trained for the job. Information available at the Kendra includes:

  • List of families below poverty line (BPL).
  • PDS - list of dealers and other related information.
  • All govt. employment and welfare schemes and their procedure.
  • Copies of FIRs relating to important disputes.
  • List of ICDS (Anganwardi) centres and other related information.
  • List of PRI members, Gram panchayat and its operational procedure.
  • List of schools, teachers, nunmer of students, and information regarding Midday meal, SSA.
  • List of Heath centres and sub-centres including information about the staff and facilities available.
  • List of DLC approved land prices area wise.
  • Priority list of pending agriculture power connections.
  • Phone/Fax numbers of tehsil and district level offices.
  • The Kendra also helps in collecting specific information required by the member.
  • Also publishes a quarterly magazine named Gram Jyoti for dissemination of information

JNM also publishes a yearly magazine named VIKASH YOJANA for dissemination of information. Besides, pamphlets carrying information relating to specific occasion like assembly and panchayati raj elections are also distributed to disseminate information. On any given working day, 30-40 people visit the JNM`s Soochna Kendra for various reasons. Apart from being updated through newspapers and interactions with the JNM office bearers, they are also provided assistance in putting forward their complaints and grievances to the concerned officials in the various departments. Volunteers of JNM help in drafting applications with relevant details and pleas for redressal which are then submitted by the individual villagers to the concerned authority. Whether it be BPL beneficiaries or SC beneficiaries or widows or senior citizens or any other category of people including educated unemployed, the JNM ensures that schemes meant for the various categories of people are brought at their doorsteps.

The Manch (Forum) conducts regular meetings and during which the progress of applications submitted various grievances that need redressal and official apathy to these, if any, are discussed at length. Other issues discussed in these meetings include:-

  • Complaints - collective and individuals.
  • Dissemination of latest information for updating the members.
  • Preparing the members to ask relevant and pertinent questions in forthcoming gram sabhas.
  • eking reports of ongoing welfare works under different govt. and NGO schemes in their villages.
  • Corruption cases to be taken for settlement and refund.
  • Discussion on course of action for the  months.

RTI in Action, data since 2005

  • 765 Applications under RTI filed.
  • 157 Applications returned with proper replies and information.
  • 246 Applications put through first appeal.
  • 192 Applications put up for second appeal.
  • 170 Applications had mutual settlements.

Jhopri

The Jhopri (Panchayat Ghar) is a unique institution and another innovation of the UJS. This is a forum for the amicable settlement and resolution of conflicts like farm boundary disputes, attrocities on women by in-laws etc.Issues are resolved by members of the society itself, of course in the light of the law of the land. There is an unwritten binding obligation to abide by it which is absent in any resolution mediated by the police and public authorities. It has high social acceptance.

Year

SC

OBC

General

Collective

Total


M

F

M

F

M

F



2005-16

5076

2262

4174

1748

1884

732

1376

17252

From April 2017

28

24

46

22

21

09

06

156

Total

5104

2286

4220

1770

1905

741

1382

17408

Views and News

सूचना के अधिकार कानून पर 5 वंा राष्ट्रीय सम्मेलन 14 से 16 अक्टुबर 2017 को उत्तकल मंडप, सचिवालय रोड़, भुवनेश्वर, उड़ीसा में आयोजित हुआ।

आमजन व जनआंदोलनों के लम्बे संघर्ष के बाद 12 अक्टुबर 2005 को हमारे देश में अगं्रेजों के समय से चला आ रहा सरकारी कार्यालयों, फाइलों, दस्तावेजों को लेकर गोपनीयता का कानून समाप्त कर, सूचना का अधिकार कानून लागू हुआ। यह जनआंदोलनों के साझे प्रयास की पहली और बड़ी कानूनी जीत थी। तब से इस संघर्ष में शामिल भ्रष्टाचार के खिलाफ, पारदर्शिता की लड़ाई लड़ने वाले सभी जनसंगठन, एक्टिविस्ट हर दूसरे साल इस कानून को अनुभवों को लेकर राष्ट्रीय समम्ेलन करते आये है। इस बार यह सम्मेलन उत्तकल मंडल भुवनेश्वर में आयोजित हुआ जिसमें 23 राज्यों के 100 से ज्यादा जनसंगठनों के 500 से ज्यादा कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

इस तीन दिवसीय सम्मेलन में बीकानेर से उरमूल ज्योति संस्थान के आर.टी.आई एक्टिविस्ट व वरिष्ठ साथी रावतराम व हेमाराम ने भाग लिया और अपने अनुभव देश के विभिन्न भागों से आये साथियों के साथ बांटे।

आंख जांच शिविर में आमंत्रण खींवसर 28 अक्टुबर 2017

सुथार चेरीटेबल ट्रस्ट, सूरत के सहयोग से उरमूल ज्योति संस्थान की टीम द्वारा 14वें आंख जांच एवं उपचार शिविर का आयोजन इस बार 28 अक्टुबर शनिवार को नागौर जिले के खींवसर गांव में आयोजित किया जा रहा है।

आंख, दांत जांच एवं उपचार के साथ रक्तदान भी होगा।

उरमूल ज्योति संस्थान नोखा द्वारा संचालित ज्योति नेत्र चिकत्सालय की टीम द्वारा यह यात्रा सुथारों की ढाणी अलाय से शुरू होकर पिछले साल सुवाप जोधपुर होते हुए अब तक 6000 से ज्यादा लोगों की आंखे जांच कर 500 लोगों की नेत्र सर्जरी करवाकर लोगो को दुबारा दुनिया दिखाने का कार्य किया जा चुका है। हर केम्प में औसत 200 लोगों को चश्मा उपलब्ध करवाई जाती है और जरूरतमंद लोगो को ज्योति नेत्र चिकित्सालय ले जाकर लैंस प्रत्यारोपण कर सर्जरी करते है जिसमे अब तक 100 प्रतिशत सफल रिजल्ट रहे है। इस ट्रस्ट द्वारा हर वर्ष एक षिविर अलाय में रातड़ी फांटे पर स्थाई रूप से माह जनवरी में लगाया जाता रहा है।

सुथार युवाओं की इस टीम में काम करने का जब्बा देखते ही बनता है। इस ट्रस्ट ने नागौर व बीकानेर ग्रामीण क्षेत्र में पीपल लगाने का अभियान चलाया है जिसमें अब तक 2500 से ज्यादा पीपल के पेड़ लगाये जा चुके है। ये युवा इन सारे कार्यो का खर्च स्वयं आपसी सहयोग से उठाते है। 

इस बार दीपावली के बाद 28 अक्टुबर को खींवसर गांव में विशाल आंख जांच एवं उपचार शिविर आयोजित हो रहा है जिसमें पूरे क्षेत्र के आंखो की बिमारी से पीड़ित लोग लाभ उठायेगें और मौके पर चश्मा के नम्बर जांच कर निशुल्क चश्मे दिये जायेगें एवं जिन लोगों के आंखों में ओपरेसन की जरूरत होगी उनको खीवंसर से नोखा ज्योति नेत्र चिकत्सालय ले जाकर लेंस प्रत्यारोपण कर सर्जरी की जायेगी। इस शिविर में डाण् पीण्आरण् सुथार द्वारा दांतों के बिमारो का उपचार किया जायेगा एवं हर बार की तरह रक्तदान भी किया जायेगा।

मै मोहनजी की टीम के सभी सुथार चेरिटेबल ट्रस्ट के युवाओं को सलाम करता हंू और खींवसर के आस.पास के आंखों एवं दांत की बिमारी से पीड़ित लोगों को इस शिविर में आमंत्रित करता हंूूं ।

चेतनराम गोदारा

उरमूल ज्योति संस्थानए नोखाए बीकानेर

9414147095, 9587616360

आज उरमूल ज्योति संस्थान द्वारा संचालित ज्योति नेत्र चिकत्सालय की फिल्ट यूनिट द्वारा नोखा तहसील के थावरिया एवं मेनसर गांवों में आंख जांच, उपचार एवं परामर्श शिविर आयोजित किये जा रहे है। यह अच्छा मौका है जिनको कम या बिल्कुल दिखाई नहीं देता वो केम्प में आकर अपनी आंखे जांच करवाये। 

दुबारा दिखाने के प्रयास में चष्मा पहनने या फिर लेंस प्रत्यारोपण कर ओपरेसन करने की सलाह दी जायेगी। चष्मा तो मोैके पर ही मिल जायेगी परन्तु ओपरेसन के लिए बुधवार या रविवार को सुविधानुसार नोखा ज्योति नेत्र चिकित्सालय आना पड़ेगा।

आज दूसरी अच्छी एवं प्रभावी गतिविधि उरमूल सेतू संस्थान द्वारा लूणकरनसर ब्लोक में की जा रही है जंहा दो ग्राम पंचायतों में अन्राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर वर्तमान सरपंच  दो बालिकाओं को पंचायत में सरपंच पद का एक दिन का जिम्मा देगें और ये बालिकाएं एक दिन पंचायत सरपंच रहकर गांव विकास में अपनी भागीदरी निभायेगी।गांव की समस्याएं सुनेगी एवं समाधान करने का प्रयास करेगी। बालिकाओं के लिए यह सुःखद एवं यादगार अवसर होगा।

अच्छा  अनुभव
मुझे उरमूल सेतू संस्थान लूणकरनसर द्वारा आयोजित दो दिवसीय अन्राष्ट्रीय बालिका दिवस कार्यक्रम में भाग लेने का मौका मिला। यह कार्यक्रम सागर होटल बीकानेर में 10 और 11 अक्टुबर 2017 को आयोजित किया गया जिसमें पूरे जिसे की 170 से ज्यादा बालिकाओं ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में बालिकाओं ने खेलए नाटकए भाषण प्रस्तूतीकरणए आपसी मिलनए आदि कई गतिविधियों में भाग लिया। बालिकओं ने अपने अनुभव सबके साथ बांटे। हमारी भाषा में सफलता की कहानियां सुनाई।
सबसे प्रभावी गतिविधि टेकओवर कार्यक्रम रहा जिसमें दो बालिकाओं ने एक दिन के लिए मुख्य चिकित्सा एंव स्वास्थ्य अधिकारी एवं जिला षिक्षा अधिकारी प्राण्षिण् बीकानेर का कार्य ग्रहण कर जनसुनवाई की और स्पष्ट आदेष व निर्देषा दिये। ऐसा लग रहा था कि ये बालिकाएं इन पदों पर लम्बे समय से काम कर रही है। इन बालिकाओं द्वारा जनसुनवाई का अन्दाज बहुत ही प्रभावित करने वाला था।
ये दो दिन बालिकाओं के साथ. साथ कार्यकर्ताओं के लिए भी काफी सीखने वाले थे। इस पूरे कार्यक्रम में उरमूल सेतू संस्थान के साथ प्लान इंडिया का सहयोग रहा और बीकानेर के कई विभागों से अधिकारियों ने यहां आकर बालिकाओं को जानकारी दी।
संस्था कार्मिको ने रात.दिन लगकर बहुत मेहनत की और इन बालिकाओं को यहां तक सुरक्षित लानेए ले जाने एवं सीखने सीखानेए खाने व आवास की अच्छी व्यवस्था की। मैं सभी संस्थान कार्मिको को एवं सहयोगियों को संस्थान की प्रबन्धन कमेठी की तरफ से धन्यवाद एवं शुभकामनाएं देता हूं।

चेतनराम गोदारा
सदस्य प्रबन्धन कमेठी
उरमूल सेतू संस्थानए लूणकरनसर

 

National level RTI Munch meeting will be held in Bhuvnesavar Udisa on 14 Oct. to 16 Oct. 2017, Rawatram or Hemaram join meeting from Urmul Jyoti Sansthan.